Local Heading

राजस्थान: लेवल द्वितीय के शिक्षकों को दोबारा आवंटित हो सकते हैं जिले

बीकानेर। राजस्थान प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय अध्यापक सीधी भर्ती 2017 लेवल द्वितीय के रिशफल अभ्यर्थियों को जिला आवंटन के आदेश रद्द करने के साथ ही प्रदेश में जिला आवंटन सूची पुन: बनाने की कवायद शुरू हो गई है। लेवल द्वितीय के 21500 अभ्यर्थी पूर्व में स्कूलों में पदस्थापित हो चुके हैं, जिन्हें खुद के जिले में आने का मौका मिल सकता है। इसके लिए उनसे विकल्प मांगा जाएगा। वहीं 3100 रिशफल अभ्यर्थियों के साथ सभी 6500 पदों पर रिशफल परिणाम शीघ्र घोषित किया जाएगा।

तत्कालीन निदेशक ने 21 दिसम्बर 2018 को रिशफल आदेश व 27  दिसम्बर 2018 को जिला आवंटन आदेश जारी किए थे। इसमें 3100 अभ्यर्थियों को जिला आवंटन भी कर दिया गया। लेकिन राज्य सरकार की ओर से मुख्य सूची में से दस्तावेज सत्यापन में अनुपस्थित रहे अभ्यर्थी, अपात्र अभ्यर्थी एवं कार्यग्रहण नहीं करने वालों के कारण रिक्त रहे पदों पर चयन रिशफल/आरक्षित सूची जारी कर रिक्त पदों को एक साथ भरने के निर्देश दिए गए है।

इसके चलते निदेशक ने 21 दिसम्बर व 28 दिसम्बर 2018 को जारी आदेश प्रत्याहारित किए हैं। अब एकल सूची जारी की जाएगी, इसमें करीब 6500 अभ्यर्थी बताए जा रहे हैं। इस सूची के साथ 21500 अभ्यर्थियों की भी शामिल सूची जारी की जाएगी। जिसमें मैरिट के अनुसार जिला आवंटन होगा। हालांकि इसके लिए अब तक टाईम फ्रेम जारी नहीं किया गया है।रीट 2018 लेवल द्वितीय के 21500 अभ्यर्थियों को आचार संहिता से पहले ही नियुक्ति दे दी थी और आचार संहिता में रिशफल परिणाम के साथ जिला आवंटन की कार्रवाई की गई थी।

Related posts

ધો-10માં નાપાસ થવાની બીકે આપઘાત કરી લેનારી વિદ્યાર્થિની પાસ થઈ ગઈ – માર્કશીટ જોઈને પિતા રડી પડ્યાં…!!

Alkesh Vyas

આવતીકાલે ગુજરાતના ધોરણ-10ના 11.59 લાખ વિદ્યાર્થીઓનું રિઝલ્ટ

Alkesh Vyas

उत्तराखंड बोर्ड का रिज़ल्ट 30 मई को होगा घोषित

Saleem Malik

फूड प्वाइजनिंग से दर्जनभर लोग बीमार

Shankardan Detha

श्रम विभाग का सर्वे शुरू, जारी होंगे नोटिस

Shankardan Detha

માત્ર 800 રુપિયા જેટલી ક્ષુલ્લક રકમની લાલચમાં પટ્ટાવાળાઓએ કર્યું શિક્ષણ જગતને કલંકિત કરવાનું ઘોર પાપ

Alkesh Vyas

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More