Local Heading

बरेली: पासपोर्ट अप्वाइंटमेंट निरस्त, 31 मार्च तक सभी डाकघर और पासपोर्ट सेवा केंद्र बंद

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रसार को देखते हुए बरेली क्षेत्र के सातों डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्र और पीएसके बरेली को 31 मार्च तक बंद कर दिया गया है.

बरेली(Bareilly): बरेली में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रसार को देखते हुए बरेली क्षेत्र के सातों डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्र और पीएसके बरेली को 31 मार्च तक बंद कर दिया गया है. 31 मार्च तक के सभी अपॉइंटमेंट निरस्त करने के साथ ही नए अपॉइंटमेंट जारी होने पर भी रोक लगा दी गई है.

इसे भी पढ़े: बरेली: ‘मैं समाज का दुश्मन हूं, मैं घर पर नहीं रहूंगा’

क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी मोहम्मद नसीम ने बताया कि विदेश मंत्रालय का आदेश आने के बाद बरेली के पासपोर्ट सेवा केंद्र को बंद कर दिया गया है. इसके साथ ही अमरोहा, बिजनौर, मुरादाबाद, रामपुर, बदायूं शाहजहांपुर और पीलीभीत में संचालित हो रहे  डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्रों को भी 31 मार्च तक बंद कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि समस्त अपॉइंटमेंट निरस्त कर आवेदकों को मैसेज भेज दिए गए हैं. अब 31 मार्च के बाद ही नए अपॉइंटमेंट के लिए आवेदन लिए जाएंगे. पासपोर्ट कार्यालय प्रियदर्शनी नगर को भी सिर्फ प्रशासनिक कार्यों के लिए खोला जा रहा है. बेहद आवश्यक परिस्थिति होने पर व्यक्ति अनुमति प्राप्त कर पासपोर्ट कार्यालय आ सकता है.

लॉक डाउन को सफल बनाने के लिए कस्बे के चौराहों के साथ-साथ प्रमुख मोहल्लों में पुलिस तैनात की गई है। जनता कर्फ्यू में लोगों ने पूर्ण सहयोग किया था. लेकिन आज लॉकडाउन होने के बाद भी लोग बिना किसी कारण के बाहर घूम रहे थे, चौकी इंचार्ज पवन सिंह टीम लेकर कस्बे में निकले और लोगों को समझाया। इसी बीच कुछ लोगों ने हंगामा मचाया तो पुलिस ने उन्हें लाठी लेकर दौड़ा दिया.

जहां सुबह से लगती थी दुकानें वहां दिनभर रहा सन्नाटा

बरेली के सीबीगंज स्थित लगने वाली साप्ताहिक बाजार में सन्नाटा पसरा रहा। जनता कर्फ्यू के चलते सोमवार को लगने वाली बड़ी बाजार में एक भी दुकान दिखाई नहीं दी. सरकार की ओर से जरूरत की चीजों की खरीददारी को लेकर भी आदेश जारी किए गए हैं. इसी के चलते बड़ी बाजार में गांव-देहात से कुछ एक किसान सब्जियां बेचने बाजार आए. सड्क किनारे दुकानदारों ने कुछ देर के लिए दुकानें लगाईं तो खरीददाररों की भीड़ उमड़ पड़ी. किराना स्टोरों पर भी लोगों की भीड़ लगी रही.

रिपोर्ट- सुधीर कुमार

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More