Local Heading

खुशखबरी! युवाओं को इंटर्नशिप के साथ मिलेगा इतना मानदेय, यह है योजना

‘मुख्यमंत्री शिशिक्षु प्रोत्साहन योजना’ के तहत राज्य के युवाओं को निजी संस्थानों में काम सीखने का मौका देगी. यही नहीं प्रदेश की योगी सरकार यह भी कोशिश करेगी कि निजी संस्थानों में काम सीखने के बाद युवाओं को वहां पर नौकरी भी उपलब्ध हो सके.

बरेलीः(Bareilly)। प्रदेश में रोजगार के स्तर को बढ़ाने के उद्देश्य से राज्य सरकार ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाने फैसला लिया है. जिसके तहत प्रदेश सरकार ‘मुख्यमंत्री शिशिक्षु प्रोत्साहन योजना’ के तहत राज्य के युवाओं को निजी संस्थानों में काम सीखने का मौका देगी. यही नहीं प्रदेश की योगी सरकार यह भी कोशिश करेगी कि निजी संस्थानों में काम सीखने के बाद युवाओं को वहां पर नौकरी भी उपलब्ध हो सके. राज्य सरकार ने इस योजना की पूरी रूप रेखा तैयार कर ली है.

पहले चरण में 35 हजार युवाओं को मिलेगा मौका

दरअसल उत्तर प्रदेश में प्रतिवर्ष हजारों की संख्या में युवा रोजगार की तलाश में दूसरे प्रदेशों की ओर रूख करते हैं. जिसको देखते हुए अब राज्य सरकार ने ‘मुख्यमंत्री शिशिक्षु प्रोत्साहन योजना’ के तहत प्रदेश को युवाओं को निजी संस्थाओं में प्रशिक्षित करने की योजना बनाई है.

ये भी पढ़ेंःरेलवे ने फिर निकाली बंपर भर्ती, 14 फरवरी से करें आवेदन

इस योजना के तहत पहले चरण में प्रदेश के 35 हजार युवाओं को निजी संस्थाओं में काम सीखने का मौका मिलेगा. यही नहीं प्रदेश सरकार निजी संस्थाओं में काम सीखने के बाद युवाओं का उसी संस्थान में नौकरी दिलाने में भी मदद करेगी. युवाओं को प्रोत्साहित करने के लिए प्रदेश सरकार काम सीखने के दौरान इंटर्न को 2500 रुपये प्रति माह भी देगी.

केंद्र और राज्य सरकार की करेंगे साथ काम

बता दें कि व्यवसायिक शिक्षा विभाग ने सरकार को ‘मुख्यमंत्री शिशिक्षु प्रोत्साहन योजना’ का पूरा खाका खींचकर भेज दिया है. युवाओं को काम सीखने के दौरान शिशिक्षु को 2500 रुपये महीने दिए जाएंगे. जिसमें से 1500 रुपये केंद्र व 1000 रुपये राज्य सरकार देगी. इस योजना के तहत राज्य सरकार इस योजना पर 63 करोड़ रुपये खर्च करेगी. जिसके लिए व्यवसायिक शिक्षा विभाग ने राज्य सरकार से 63 करोड़ रुपये मांगे हैं.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More