Local Heading

पाक की नापाक हरकत, भेज रहा है भारत में नशा

भारतीय तट रक्षक यानी कोस्ट गार्ड ने गुजरात के समुद्री तट के पास बीते मंगलवार को एक पाकिस्तानी फिशिंग बोट से 500 करोड़ रुपये के नशीले पदार्थ बरामद किए. मछली पकड़ने में काम आने वाली नाव का नाम अल मदीना है. दरअसल इस नाम पर पाकिस्तान के कराची शहर का नाम है.

फिलहाल इस पर सवार 6 लोगों से पूछताछ की जा रही है. इसके लिए उन्हें जकाऊ ले जाया गया है. कोस्टगार्ड ने बताया, दो दिन पहले उन्हें नेशनल टेक्निकल रिसर्च ऑर्गनाइजेशन और डायरेक्टोरेट ऑफ रेवन्यू इन्टेलिजेंस से पाकिस्तान फिशिंग बोट के जरिए भारत में ड्रग्स लाए जाने की जानकारी मिली थी.

कोस्टगार्ड ने जखौव के पास अंतरराष्ट्रीय जल सीमा में एक फास्ट अटैक पेट्रोलिंग बोट और दो इंटरसेप्ट बोट को तैनात कर सर्च ऑपरेशन शुरू किया था. सर्च ऑपरेशन में कोस्टगार्ड ने डॉर्नियर प्लेन को भी अपने साथ जोड़ दिया था. इस दौरान मंगलवार को पाकिस्तान के कराची से निकली अल मदीना बोट को इंटरसेप्ट कर जांच की गई तो उनके पास ड्रग्स बरामद हुए.

राजस्व खुफिया निदेशालय समेत अन्य एजेंसियों से सूचना मिली थी कि नशे के कारोबार में इस्तेमाल हो रही एक ‘संदिग्ध’ नाव भारत-पाकिस्तान समुद्री सीमा रेखा के आसपास दिख सकती है.

मंगलवार को अल मदीना ने जैसे ही अंतरराष्ट्रीय जल सीमा पार की, कोस्ट गार्ड ने उसे पकड़ लिया. शुरुआती तलाश में उसमें से नशीले पदार्थ के 194 पैकेट बरामद किए गए. और उन्हें रासायनिक विश्लेषण के लिए भेज दिया गया है.

फिलहाल नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो और ATS इसकी जांच कर रही हैं. कोस्ट गार्ड को देखते ही नाव में सवार फिशर मैन ने कुछ पैकेट्स समुद्र में फेंक दिए. लेकिन कोस्टगार्ड की सतर्कता से उसे पकड़ लिया और समुद्र में फेंके गए 7 पैकेट्स भी बरामद कर लिए गए. बोट कच्छ के जखौव या गुजरात के समुद्री तट पर पहुंचने वाली थी.

Related posts

चोरी का ये तरीका सुनकर सिर पकड़ लेंगे आप!

Deepanshi

युवती को मोबाइल ऐप पर लड़के से दोस्ती करना पड़ा भारी

Harish Singh

गांजे के धुंए में उड़ रही है दिल्ली

Ravinder Kumar

जल्दबाजी में ट्रेन से कूदने पर दो छात्राओं की मौत

Shravani Pattnaik

पत्नी को बेटे की बुरी नजर से बचाने के लिए थाने पहुंचा पिता

Harish Singh

फर्जीवाड़ाः दुकान में चल रहा पहली से 11वीं कक्षा तक का स्कूल

Harish Singh

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More