Local Heading

OMG: Virginity दिलवाने का चल रहा है गंदा खेल, पहली रात के लिए ये क्या बिक रहा है?

Virginity या फिर कौमार्य एक ऐसी अवस्था है जिसमें व्यक्ति ने कभी भी संभोग नहीं किया होता है। और इसी कौमार्य को अब बाजार मे बेचा जा रहा है। देश-विदेश की कई कंपनियां एक उत्पाद के माध्यम से लोगों की भावनाओं से खेल रही हैं। और ये मामला सोशल मीडिया पर भी इन दिनों चर्चा की वजह बन रहा है। क्या है पूरा मामला पढ़िये।

दिल्ली (Delhi): Virginity एक ऐसी अवस्था होती है जिसमें व्यक्ति ने कभी भी संभोग नहीं किया होता है। सांस्कृतिक और धार्मिक परंपराओं में विशेष रूप से अविवाहित महिलाओं, निजी पवित्रता के विचार के साथ जुड़े मामलों और मूल्यों आदि को विशेष मूल्य और महत्व दिया गया है। सतीत्व अथवा शुद्धता की तरह ही, कौमार्य की अवधारणा में भी परंपरागत रूप से शादी से पहले यौन संयम रखना शामिल है और शादी के बाद ही अपने जीवन साथी के साथ यौन क्रियाओं में संलग्न होना है। और इसी अवधारणा के साथ देश-विदेश की कुछ कंपनियां देश के लोगों के साथ भद्दा मजाक कर रहे हैं और लाखों के वायरे न्यारे भी कर रही हैं।

First Night पर ख़ून निकलने के लिए अब कैप्सूल बिक रही है!

कई घरों में आज भी शादी के बाद पति-पत्नी की पहली रात पर सफ़ेद चादर बिछाई जाती है। अरेंज मैरिज में कई बार लड़के शादी से पहले लड़की के सामने ये सवाल भी रख देते हैं, ‘वर्जिन हो या नहीं’।

मक़सद सिर्फ़ एक है, ‘लड़की की Virginity की जांच। डॉक्टर्स, सामाजिक कार्यकर्ताओं ने चिल्ला-चिल्लाकर कई बार कहा है कि Hymen लेयर खेलने-कूदने या फिर यूं ही टूट सकता है, सेक्स में ख़ून न आना काफ़ी नॉर्मल है। 

इस अंधविश्वास को हमारे समाज से मिटाने में 100-200 साल और लगेंगे। आमतौर पर हमारा यही मानना है कि गांव-देहात, छोटे शहरों में ही ‘हाइमन’ को लेकर हाय-तौबा मचाई जाती है। और इसी भ्रम के चलते एक वेबसाइट एक ऐसा प्रॉडक्ट बेच रही है जो हाइमन यानी कौमार्य को फिर से बना सकती है। हालांकि ये एक धोखे का भी खेल है क्योंकि इस उत्पाद के यूज करने से कौमार्य वापस नहीं आता लेकिन एक आर्टिफिशल कौमार्य जरूर पैदा होता है। जो कुछ लोगों के लिए भ्रम की स्थिति पैदा की जा सकती है। लेकिन क्या ये वाकई एक अच्छा चलन है। ये जरूर सोचने की बात है।

जिसके बाद सोशल मीडिया खासतौर पर ट्विटर पर एक महिला ने तो यहां तक लिख डाला कि Online Website और हमारे तथाकथित ‘Progressive’ समाज और दुनिया के सबसे बड़े वेबसाइट की हक़ीक़त साफ़ कर दी है। वहीं एक महिला ने लिखा ‘अब तक समझते थे कि शिक्षा की कमी की वजह से देश के एक ख़ास तबके में ही वर्जिनिटी को लेकर अंधविश्वास है पर वेबसाइट पर इस सामान की लिस्टिंग देखकर वो भ्रम दूर हो गया’.

हालांकि वेबसाइट पर मामले को लेकर अभी तक कोई सफ़ाई, कोई बयान नहीं आया है। इस तरह का सामान बिकना कहीं न कहीं वेबसाइट की सोच को दर्शाता है। शायद वेबसाइट के लिए ऐसे सामान बेचना सामाजिक अंधविश्वासों को दूर करने से भी ज़्यादा ज़रूरी है! उससे भी ज़्यादा महान है कंपनी जिसने ये सामान बनाया।

बहरहाल, हमारी आपको ये नसीहत है कि आप इस खबर को पढ़ें और समझे की दुनिया में ऐसा कोई उत्पाद नहीं जो कौमार्य को वापस ला दे। क्योंकि ये एक जीवन के सतत विकास की प्रक्रिया है। जिसे समझना आवश्यक है और साथ ही ऐसे भ्रमक उत्पादों से भी बचा जाना चाहिए।  

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More