Local Heading

दिल्ली तुझे हुआ क्या है, बढ़ती वारदातों की वजह क्या है?

साल 2019 में राजधानी में हत्या के मामलों में तेजी से इजाफा हुआ है। इस साल के महज नौ महीनों में 396 लोगों की हत्या कर दी गई। हर दूसरे कत्ल की वजह रंजिश रही। प्रेम प्रसंग भी बड़ी वजह है।  पुलिस का दावा है कि हत्या के 87.62 फीसदी मामलों को सुलझा लिया गया है। 396 में से महज 49 मामले अनसुलझे हैं। इनमें कई प्रमुख हत्याकांड शामिल हैं। हत्या के मामलों में अब तक 767 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

नई दिल्ली(New Delhi): महानगर दिल्ली, तेजी से विकसित होता शहर। लेकिन दुख ये भी कि राजधानी दिल्ली में अपराध लगातार अपने पैर पसार रहा है। दिल्ली में लगातार हत्या की वारदातें बढ़ रही हैं। पिछले साल एक जनवरी से 15 सितंबर के बीच 338 लोगों की हत्याएं हुई थीं। इस साल एक जनवरी से 30 सितंबर तक 396 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया। ये वो आंकड़ा है जो दिल्ली पुलिस और यहां रहने वाले लोगों के सामने वो सवाल खड़े करता है जिसे सुनने और समझने के बाद रौंगटा खड़ा होना लाजिमी है।  

वहीं, हैरान करने वाली बात ये भी है कि लगभग 50 फीसदी हत्याओं के पीछे आपसी रंजिश कारण रहा है। पिछले साल 38 फीसदी हत्याएं रंजिश में की गई थीं। इस वर्ष हत्या के कारणों में प्रेम प्रसंग और अचानक गुस्सा भी बड़ा कारण रहा है। पिछले नौ माह के आंकड़ों पर गौर करें तो हर माह 44 लोगों की हत्या की गई।

यानी हर दो दिन में तीन लोगों को किसी न किसी वजह से मार दिया गया। हत्या की कोशिश के मामले भी कम नही हैं। इस साल 15 सितंबर तक 342 लोगों पर जानलेवा हमला किया गया। पुलिस ज्यादातर मामलों को सुलझाने का दावा कर रही है।

  • ये रहे आंकड़े
  • वर्ष    हत्या
  • 2018    513
  • 2017    487
  • 2016    528
  • 2015    570
  • (एक जनवरी से 31 दिसंबर तक)
  • इस वर्ष के नौ माह
  • वर्ष    हत्या
  • 2019    396
  • 2018    338
  • (2019 1 जनवरी से 30 सितंबर। 2018 में 15 सितंबर तक)
  • हत्या की कोशिश
  • वर्ष    हत्या
  • 2019    342
  • 2018    385
  • 2017    645
  • 2016    646
  • 2015    770
  • (2018 और 2019 में 1 जनवरी से 15 सितंबर तक। बाकी सभी 31 दिसंबर तक)
  • कुछ बड़े अनसुलझे केस
  • एक नजर में
  • . 2019 में 30 सितंबर तक 396 लोगों की हत्या।
  • . 347 मामले सुलझाने का दिल्ली पुलिस ने किया दावा
  • . 767 लोगों को हत्या के मामले में किया गया गिरफ्तार।
  • . 44 लोगों की हत्याएं हर माह हो रहीं राजधानी में।
  • . 49 मामले अब भी अनसुलझे, छानबीन जारी।
  • . 87.62 फीसदी मामले दिल्ली पुलिस ने सुलझाए।

कुछ अनसुलझे मामले

– उत्तर-पूर्वी दिल्ली के ज्योति नगर इलाके में 16 सितंबर को बाइक सवार बदमाशों ने लूटपाट का विरोध करने पर स्कूटी सवार इलेक्ट्रॉनिक कारोबारी राजुल सिंघल (42) की घर के पास गोली मारकर हत्या कर दी थी।

– पूर्वी दिल्ली के मधु विहार इलाके में 21 सितंबर को पति को डायलिसिस के लिए ले जा रही 59 साल की उषा रानी की बाइक सवार बदमाशों ने गोली मारकर हत्या की। एक नामी इंश्योरेंस कंपनी में असिस्टेंट मैनेजर उषा उस समय अपनी कार में थीं। सीसीटीवी फुटेज मिली, पर मामला अभी तक सुलझा नहीं है।

– 25 अगस्त 2017 को सेंट स्टीफन अस्पताल में डॉ. शाश्वत पांडे की गला रेतकर हत्या कर दी गई। आरोप अस्पताल के ही डॉक्टर सुयश गुप्ता पर लगा, जो फरार है। जुलाई 2018 में शाश्वत की मां की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने केस सीबीआई को सौंपा था।

Related posts

राजधानी में ‘उबर’ ड्राइवर की शिकार बनी अमेरिकन छात्रा

Alok Verma

चेन स्नेचिंग का शिकार हुई एयरहोस्टेस, सॉरी कहकर भागे बदमाश

Ramta

दिल्ली में 1.5 लाख ‘स्पीड’ चालान माफ

Ravinder Kumar

परिजनों की गुंडा-गर्दी से गुस्साए डॉक्टरों ने कार्य बहिष्कार कर धरने पर बैठे

Shravani Pattnaik

सिद्धि पाने के लिए शराबी ने मिट्टी में डाली गर्दन

Deepanshi

आपके हिस्से का टिकट ब्लैक कर लेता है कॉकस

Alok Verma

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More