Local Heading

‘आप’ की नहीं, ये है महिलाओं द्वारा चुनी सरकार!

दिल्ली में आम आदमी पार्टी को प्रचंड जीत हासिल हुई है. इस जीत में वोटरों की बात करें तो महिला वोटरों के बिना यह बड़ी जीत असंभव थी. जी हां! पुरुष वोटरों की अपेक्षा महिला वोटरों का समर्थन अधिक मिलने की वजह से ही केजरीवाल सरकार ने बड़ी जीत हासिल करते हुए हैट्रिक मारी है. सर्वे के दौरान हुए इस खुलासे में वह मिथ्य भी टूट गया, जिसमें कहा जाता है कि महिलाएं पुरुषों से सलाह लेकर ही अपनी पसंदीदा पार्टी को वोट देती है. बता दें कि लोकनीति-सीएसडीएस के सर्वे में खुलासा हुआ है कि यदि महिलाएं इतनी बड़ी तादाद में आम आदमी पार्टी का समर्थन नहीं करतीं तो उसको इतनी बड़ी जीत नहीं मिलती. यही नहीं फिर दिल्ली में आप के लिए मुकबला कड़ा हो सकता था. 

सर्वे की मानें तो दिल्ली चुनाव में 60 प्रतिशत महिलाओं ने आप पार्टी को वोट दिया, जबकि 49 प्रतिशत पुरुषों ने वोट किया. इन आकड़ों पर नज़र डालें तो चुनाव में महिलाओं ने पुरुषों की अपेक्षा आम आदमी पार्टी को 11 प्रतिशत अधिक वोट दिया. इस सर्वे के मुताबिक पुरुषों की तुलना में महिलाओं ने बीजेपी को 8 फीसदी जबकि कांग्रेस पार्टी को 2 फीसदी कम वोट दिया है. 

गौरतलब है कि लोकनीति-सीएसडीएस साल 1998 से लगातार दिल्ली चुनाव को लेकर सर्वे करता रहा है, लेकिन इस बार के सर्वे की अपेक्षा वोटिंग प्रतिशत में लिंग के आधार पर इतना बड़ा अंतर देखने को कभी नहीं मिला. फिर क्यूँ न दिल्ली की महिला मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के समय में ही हो. वहीं इस सर्वे में अहम बात यह भी है कि यह जेंडर गैप सभी समुदायों, जातियों और उम्र के लिहाज से भी मतदाताओं में यह आकड़ा देखने को मिला. इन आकड़ों के बाद राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो केजरीवाल सरकार द्वारा महिलाओं के लिए मुफ्त बस सेवा योजना के चलते जेंडर गैप के हिसाब से वोटिंग प्रतिशत में बड़ा बदलाव देखने को मिला है. 

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल सरकार पर मौसम भी मेहरबान!

2015 के विधानसभा चुनाव परिणाम के आकड़ों पर नज़र डालें तो आप को 49 प्रतिशत महिलाओं ने वोट किया था. वहीं बीजेपी को 43 फीसदी महिलाओं ने वोट दिया था. पर इस बार के सर्वे ने सब को चौका दिया है. 2020 के दिल्ली चुनाव परिणाम आने के बाद हुए सर्वे में पता चला है कि आप को 60 फीसदी, जबकि बीजेपी को 35 फीसदी महिलाओं ने वोट दिया है.

इसे भी पढ़ें: OMG! सांड ने महिला को मौत के घाट उतारा, आधे घंटे तक उसकी लाश पर बैठा रहा

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More