Local Heading

सावधान: कैंसर करेगा करोड़ों लोगों का शिकार

साल 2040 तक हर साल दुनिया भर में 1.5 करोड़ से ज्यादा लोगों को कैंसर के इलाज में इस्तेमाल होने वाली कीमोथेरपी की जरूरत पड़ेगी. निम्न और मध्यम आमदनी वाले देशों में कैंसर के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए कैंसर का इलाज करने वाले करीब 1 लाख डॉक्टरों की भी आवश्यकता होगी. एक नए अध्ययन में यह दावा किया गया है.

प्रतिष्ठित पत्रिका ‘लांसेट ऑन्कोलॉजी’ में हाल में प्रकाशित एक अध्ययन में कहा गया है कि 2018 से 2040 तक दुनिया भर में हर साल कीमोथेरपी कराने वाले मरीजों की संख्या 53 प्रतिशत के इजाफे के साथ 98 लाख से 1.5 करोड़ हो जाएगी. राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और वैश्विक स्तर पर कीमोथेरपी के लिए पहली बार अध्ययन में इस तरह का आकलन किया गया है.

यह अध्ययन प्रतिष्ठित पत्रिका ‘लांसेट ऑन्कोलॉजी’ में प्रकाशित हुआ है. इस अध्ययन में कहा गया है कि 2018 से 2040 तक दुनिया भर में हर साल कीमोथैरेपी कराने वाले मरीजों की संख्या 53 फीसदी के इजाफे के साथ 98 लाख से 1.5 करोड़ हो जाएगी

इस अध्ययन में शामिल रहीं सिडनी के न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय की प्रोफेसर ब्रुक विल्सन के मुताबिक पहली बार राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और वैश्विक सभी स्तरों पर मिलाकर कीमोथैरपी के लिए इस तरह का आकलन किया गया है. दुनिया भर में कैंसर का प्रभाव तेजी से बढ़ रहा है, कैंसर का खतरा निस्संदेह आज के समय में स्वास्थ्य के क्षेत्र में सबसे बड़ा संकट है.

उन्होंने आगे कहा, ‘हम दुनिया को अभी से कैंसर के खतरे को लेकर आगाह करना चाहते हैं. हमारे अध्ययन में यह भी सामने आया है कि लोगों को कैंसर से बचाने के लिए करीब एक लाख डॉक्टरों की भी जरूरत होगी. मेरा मानना है कि हमें मौजूदा और भविष्य के कैंसर मरीजों के सुरक्षित उपचार के लिए वैश्विक स्वास्थ्य कार्यबल को तैयार करने की तुरंत रणनीति बनाने की जरूरत है.’

यह अध्ययन ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय, इंगहैम इन्स्टीट्यूट फॉर अप्लाइड मेडिकल रिसर्च, किंगहार्न कैंसर सेंटर और लीवरपूल कैंसर थैरेपी सेंटर के शोधकर्ताओं द्वारा किया गया था. इसमें फ़्रांस स्थित इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर के शोधकर्ताओं का भी महत्वपूर्ण योगदान रहा.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. Local Heading इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

Related posts

जानें पत्तल में खाना खाने के फायदे

Ramta

बहुउद्देशीय शिविरः 60 शिकायतें हुई दर्ज, 18 दिव्यांगों को दिए प्रमाण पत्र

Jagdish Pokhariyal

दिल का मामला है, तो दवा से परहेज क्यों?

Ravinder Kumar

70% भारतीय चाहते हैं देश में लागू हो वन चाइल्ड पॉलिसी

Pebble Originals

फिर निकला जापानी इंसेफलाइटिस का जिन्न

Shravani Pattnaik

कहीं आप भी तो जहरीली मछलियां नहीं खा रहे?

Deepanshi

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More