Local Heading

ठेलिया पर मरीज को बैठाकर भटकता रहा अस्पताल-अस्पताल, परेशान होकर पहुंचा इस जगह

सिविल अस्पताल पहुंचने पर और डॉक्टरों ने बलरामपुर का रास्ता दिखा दिया। मजदूरी में मरीज को निजी अस्पताल ले जाना पड़ा।

लखनऊ (LUCKNOW): 108 ऐंबुलेंस सेवा पर फोन करने के बाद भी मदद न मिलने पर राजाजीपुरम निवासी राकेश पत्नी गीता को ठेलिया पर लेकर बलरामपुर अस्पताल पहुंचा।

आरोप है कि इमरजेंसी में डॉक्टरों ने बिना देखे ही सिविल ले जाने का फरमान सुना दिया। किसी तरह सिविल अस्पताल पहुंचने पर और डॉक्टरों ने बलरामपुर का रास्ता दिखा दिया। मजदूरी में मरीज को निजी अस्पताल ले जाना पड़ा।

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउन: घर-घर पहुंचेगा राशन, इन नंबरों पर करें कॉल

राकेश के मुताबिक 15 मार्च को पत्नी गीता का बलरामपुर अस्पताल में बच्चेदानी का ऑपरेशन हुआ था। डॉक्टरों ने टांके कटवाने की तारीख देकर डिस्चार्ज कर दिया। टांके वाली जगह पर दो दिन से दर्द हो रहा था। तकलीफ बर्दाश्त न होने पर कई बार 108 और 102 पर फोन किया गया।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More