Local Heading

LUCKNOW: मिशन 2022 के लिए राजभर बना रहें हैं भागीदारी मोर्चा

उत्तर प्रदेश में लगभग 1400 थाने हैं, लेकिन पिछड़ों की हिस्सेदारी नहीं है. प्रमोशन में आरक्षण खत्म कर उच्च पदों पर पिछड़ों के पहुंचने से बाधित किया जा रहा है.

लखनऊ (LUCKNOW): सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के नेता ओमप्रकाश राजभर ने मिशन 2022 की तैयारियों के लिए मोर्चे के विस्तार का ऐलान किया है. ओमप्रकाश राजभर योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री रह चुके है। मिशन 2022 की जंग जीतने की तैयारी में उत्तर प्रदेश के बड़े-बड़े नेता जुट गये है. सुभासपा पार्टी में मोर्चा का गठन 10 दिसंबर 2019 में हो गया था, लेकिन अब ये मोर्चा मिशन 2022 के लिए जमकर काम करने में जुट गया है।

मिशन 2022 मोर्चे के नेता ओमप्रकाश राजभर ने बताया कि भारतीय वंचित समाज पार्टी के रामकरण कश्यप और केवट बिंद भी भागीदारी मोर्चे के साथ जुड़ गये है और इस तरह से भागीदारी मोर्चा अभी तक 7 छोटी पार्टियों का मोर्चा बन गया है. सुभासपा के नेता ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि बीजेपी सरकार पिछड़ों के लिए कोई कार्य नही कर रही है, बीजेपी सरकार ने मंदिर मसले के लिए पिछड़ों का इस्तेमाल किया और ट्रस्ट में पिछड़ों को कोई जगह नहीं मिली इस प्रकार सरकार पिछड़ों के साथ अन्याय कर रही है।

इसे भी पढ़ें: अस्पताल में रहेगा भक्तिमय माहौल, मरीजों को मिलेगी राहत

क्या बीजेपी सरकार पर लगाये गये आरोप जायज ? ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि 30 मई 2018 को सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट आ चुकी है. उसमें विभाजन सात 11 और 9 पिछड़ा, अति पिछड़ा और सर्वाधिक पिछड़ा उसको रद्दी की टोकरी में डाल दिया है.

उत्तर प्रदेश में लगभग 1400 थाने हैं, लेकिन पिछड़ों की हिस्सेदारी नहीं है. प्रमोशन में आरक्षण खत्म कर उच्च पदों पर पिछड़ों के पहुंचने से बाधित किया जा रहा है. गलत उद्देश्य से सार्वजनिक संपत्तियों को बेचा जा रहा है जो कि देश के लिए हानिकारक है।

सरकार बनाने में 38 प्रतिशत पिछड़े वर्ग का हाथ राजभर के अनुसार 38 फीसदी प्रदेश का पिछड़ा ही किसी भी दल का सरकार बनवा रहा है, और उनकी कोशिश 38 फीसदी को भागीदारी संकल्प मोर्चा में सम्मिलित करने की है. ओमप्रकाश राजभर 2022 का चुनाव भागीदारी मोर्चे के बैनर तले लड़ने की पुरी तैयारी में हैं. उनका कहना है कि मोर्चा सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगा. सुभासपा नेता अरुण राजभर कहते हैं कि जो दलित शोषित और वंचित हैं, चाहे वो किसी भी जाति या धर्म से हों, भागीदारी संकल्प मोर्चे में उन सबकी भागीदारी महत्वपूर्ण है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More