Local Heading
जज से हिंदू नेता बने कोकजे ने कहा, सीजेआई ने मंदिर पर निराश किया 2

जज से हिंदू नेता बने कोकजे ने कहा, सीजेआई ने मंदिर पर निराश किया

इन्दौर। विश्व हिन्दू परिषद् के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष जस्टिस व्ही.एस.कोकजे ने कहा सरकार राम मंदिर बनाने के लिए कानून इसलिए नहीं बना रही है, क्योंकि कतिपय लोग उस कानून को न्यायालय में चुनौती दे सकते हैं और इस चुनौती से निपटने में काफी समय लग सकता है। कोर्ट से मंदिर निर्माण संबंधी फैसला नवम्बर 2019 तक आ सकता है।

आगामी 30 एवं 31 जनवरी को प्रयाग राज में संत समाज और विश्व हिन्दू परिषद् मंदिर निर्माण पर आगामी रणनीति तय करेगी, जिसका खुलासा एक फरवरी को किया जायेगा। मंदिर निर्माण की तैयारी पूर्ण है। भूमि का कब्जा मिलते ही मात्र दो वर्ष में मंदिर निर्माण पूर्ण हो जायेगा।

जस्टिस कोकजे प्रीतमलाल दुआ सभागृह में स्टेट प्रेस क्लब, मध्यपद्रेश द्वारा आयोजित राष्ट्रीय परिसंवाद ‘‘श्रीराम मंदिरः कब, कहां और कैसे’’ विषय पर मुख्य वक्ता के रूप में बोल रहे थे। जस्टिस कोकजे ने कहा अयोध्या में मंदिर तो है सिर्फ भव्य मंदिर बनना शेष है। कोर्ट में यह सिद्ध हो चुका है कि, ढांचे के नीचे मंदिर था। राजनीति के कारण विवाद बढ़ा। मुस्लिमों की ओर से पैरवी करने वाले सभी हिन्दू हैं।

कोर्ट में सिद्ध हो चुका है कि, वहां सन् 1949 के बाद एक बार भी नमाज नहीं हुई। जिस तरह मुस्लिमों के लिए कावा पवित्र स्थल है, उसी प्रकार राम जन्मभूमि भी हिन्दूओं का पवित्र स्थल है। सोमनाथ की ही तरह अयोध्या में भी सरकार को मंदिर निर्माण करना चाहिए। उन्होंने कहा भारत में अनेक हिन्दू मंदिर तोड़कर मस्जिदें बनाई गई थी।

जस्टिस कोकजे ने यह भी कहा-

– रामलला टाट में, वादा करने वाले ठाठ में।

– भाजपा विहिप के बीच कोर्ट विवाद नहीं।

– भाजपा ने कहा था तुम सरकार बना दो, हम मंदिर बना देंगे।

– मोदी सरकार मंदिर बनाती है तो 2019 में पूर्ण बहुमत ले आयेगी।

– अगर न्यायालय खिलाफ निर्णय देता तो फिर सरकार कानून बनायेगी।

– मंदिर बनाने में धन की कोई कमी नहीं है, कई दानदाता भी तैयार है।

– जहां नमाज नहीं होती, वहां मस्जिद नहीं होती।

– आस्था के सामने राम का जन्म हुआ या नहीं, यह मायने नहीं रखता है।

– यह राष्ट्र के मान बिन्दुओं को स्थापित करने की लड़ाई है।

– मूर्ति को भी कानून में व्यक्ति माना गया है, इसलिए रामलला भी मुकदमे में पक्षकार है।

– न्याय देने के मामले में विलम्ब करके सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने निराश किया।

– विहिप के पास फिलहाल नरेन्द्र मोदी और बीजेपी पर भरोसा करने के अलावा कोई चारा नहीं।

– कांग्रेस का हिन्दू विरोधी रवैया हमें हतप्रभ करता है।

– कांग्रेस की “वकील गैंग” कई मामलों में बेजा दबाव बनाती है।

– शबरीमला मामले में जन भावनाओं के विरूद्ध दिये गये फैसले का हश्र देखकर अब न्याय पालिका को भी अपने फैसले पर विचार करना चाहिये।

Related posts

धनतेरस से दिवाली तक इस मंदिर में प्रसाद में मिलता है सोना-चांदी!

Deepanshi

टॉयलेट के साथ फोटो लेने पर दूल्हे को मिलेंगे 51 हजार रुपए!

Deepanshi

1 किलो आटे से बनती है ये एक अनोखी रोटी!

Deepanshi

यहां दशहरे से 6 महीनें पहले हिन्दू-मुस्लिम मिलकर करते हैं रावण का अंत

Deepanshi

मां दुर्गा के इस मंदिर में आते ही बदल जाता है भाग्य!

Deepanshi

पाकिस्तान से लायी गयी है मां दुर्गा के इस शक्तिपीठ की अमर ज्योति!

Deepanshi

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More