Local Heading

अरे वाह! IAS की बेटी आंगनबाड़ी में…

भारतीय शिक्षा की स्थिति जगजाहिर है. सरकारी स्कूलों में ज्यादातर गरीब मजदूर और किसानों के बच्चे पढ़ने जाते हैं. मध्यम परिवार से लेकर अधिकारी तक के बच्चे प्राइवेट स्कूल में बच्चों को भेजते है. यानी कोई भी माता-पिता खुशीपूर्वक अपने बच्चे को सरकारी संस्थान तो नहीं ही भेजते है.

वहीं, अगर कोई IAS अपने बच्चें को आंगनबाड़ी केंद्र पढ़ने के लिए भेजे तो आप शायद विश्वास ही ना करें. -लेकिन, आपको विश्वास करना होगा, क्योंकि देश के इस IAS अफसर ने अपने बच्चे को आंगनबाड़ी भेजा है.

मध्य प्रदेश के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी व कटनी के जिलाधिकारी डॉ. पंकज जैन समाज के उन बड़े और अमीर लोगों के लिए मिसाल पैदा की है जो अपने बच्चों को निजी और बड़े नाम वाले स्कूलों में पढ़ाने को अपनी शान समझते हैं. जिलाधिकारी पंकज की बेटी पंखुड़ी आंगनबाड़ी में पढ़ने जाती है.

पंकज का कहना है, ‘पंखुड़ी जिस आंगनबाड़ी में पढ़ने जाती है, उस केंद्र के अलावा आसपास के चार-पांच केंद्र किसी प्ले स्कूल से कम नहीं हैं. जब जिम्मेदार अधिकारी अपने बच्चों को इन स्थानों पर भेजते हैं तो स्थितियां अपने आप सुधर जाती हैं, आप भी नजर रखते हैं. कोई कमी होती है तो उसमें सुधार लाने के लिए टोकते भी हैं.’

पंकज की इस पहल को राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने भी सराहा है. उन्होंने पत्र लिखकर कहा है, “लोक सेवक समाज में प्रेरणा के केंद्र होते हैं, उनके आचरण का समाज पालन करता है. कर्तव्यों के प्रति आपकी सहजता ने मुझे अत्यधिक प्रभावित किया है, आपके इस प्रयास से शासकीय सेवकों का दायित्व बोध बढ़ेगा.’

Related posts

नींबू लेने गई मासूम को दुकानदार के बेटे ने बनाया हवस का शिकार

Ramta

एआरटीओ का ड्राइवर भी नहीं लगाता है सीट बेल्ट!

Asif Ali

विवादों में रही हैं एसपी संगीता कालिया

Ramta

शराब बेचने से रोकने पर बढ़ा विवाद, जिम संचालक पर की ताबड़तोड़ फायरिंग

JITENDER MONGA

सावधान: दिमागी बुखार के तांडव के बाद अब बच्चों पर विकलांगता का खतरा

Ravinder Kumar

“बिजली की समस्या का कारण चमगादड़ है”

Pragati Raj

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More