Local Heading

शिक्षा के लिए कोरोना महामारी चुनौती भी है और अवसर भी है: प्रो.रजनी रंजन सिंह

मेरठ – चौ.चरण सिंह विवि के राजनीति विज्ञान विभाग में कोविड-19 के साथ जीवन: स्वावलंबी भारत की रूपरेखाविषय पर जारी वर्कशॉप में यह बात एनआईओएस के पूर्व चेयरमैन प्रो.चंद्रभूषण शर्मा ने कही। प्रो.रजनी रंजन सिंह ने कहा कि पाश्चात्य चिंतन टुकड़ों में विचार करता है। यह समाज में विभेदकारी व्यवस्थाओं को जन्म दे रहा है। भारतीय जीवन दृष्टि शरीर, मन, बुद्धि और आत्मा सभी को एक मानती है। वह सबमें एकसमान आत्मा देखती है।

उन्होंने कहा कि वर्तमान शिक्षा का स्वरूप एवं प्रारूप विभेदकारी है। पं.दीनदयाल उपाध्याय शोधपीठ के निदेशक प्रो.पवन शर्मा ने कहा कि पंडित दीनदयाल के एकात्म मानवदर्शन में सर्व समावेशी शिक्षा दर्शन, भारतीय परंपरा में जड़ एवं चेतन सभी की बात करता है। हाल ही में हाईकोर्ट ने नदियों को भी जीवंत इकाई माना है जो यह साबित करता है कि भारतीय चिंतन दृष्टि संपूर्ण प्रकृति और सृष्टि को एकात्म मानती है।

इसे भी पढ़ें – 18 मई तक पूरी तरह से बंद रहेंगे CCSU के कैंपस और संबद्ध कॉलेज

प्रोवीसी प्रो.वाई विमला ने कहा कि समावेशी शिक्षण प्रतिभा, योग्यता एवं दक्षता के आधार पर होना चाहिए। हम विद्यार्थी की क्षमता और प्रतिभा को निखारें ना कि अपनी शिक्षण पद्धति या अपने विचारों को उस पर थोपें। वर्कशॉप में डॉ.राजेंद्र कुमार पांडेय, भानु प्रताप, डॉ.भूपेंद्र प्रताप सिंह, डॉ.देवेंद्र उज्जवल, संतोष त्यागी एवं नितिन त्यागी का सहयोग रहा।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More