Local Heading
बेटियों के साथ हैवानियत करने वाले सौतेले पिता को उम्रकैद

बेटियों के साथ हैवानियत करने वाले सौतेले पिता को उम्रकैद

मेरठ(Meerut)- उत्तर प्रदेश के मेरठ मंडल के बागपत में दो बेटियों से दुष्कर्म करने वाले सौतेले पति को कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है. बाल कल्याण न्यायपीठ के आदेश पर महिला थाने में यह मुकदमा दर्ज कराया गया था, जिसेक बाद पॉक्सो एक्ट के तहत कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया.

दरअसल, मेरठ मंडल के बागपत में एक महिला की शादी बीस साल पहले दोघट थाना क्षेत्र के एक गांव के व्यक्ति से हुई थी. महिला की दो बेटी और एक बेटा है. कुछ साल बाद विवाद के चलते दोनों का तलाक हो गया.

तलाक लके बाद महिला तीनों बच्चों को लेकर मायके आ गई और साल 2001 में उसने दूसरी शादी कर ली. साल 2014 में महिला की मौत हो गई. मौत के कुछ महीनों बाद सौतेले पिता ने 15 वर्षीय बड़ी बेटी को नशे की गोली खिलाकर रेप करना शुरु कर दिया और किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी.

कुछ दिनों के बाद सौतेले पिता ने 13 वर्षीय छोटी बेटी को भी अपनी हैवानियत का शिकार बनाना शुरु कर दिया. दोनों बहनों ने यौन उत्पीड़न से परेशान होकर बाल कल्याण न्यायपीठ में तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की.

लड़कियों की तहरीर के बाद बाल कल्याण न्यायपीठ के आदेश पर महिला थाने में सौतेले पिता महेंद्र के खिलाफ धारा 323, 376, 506 आईपीसी एवं धारा 5/6 व 7/8 लैंगिक अपराधों से बालिका संरक्षण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया.

मामले की सुनवाई के बाद आरोपी को आजीवन कारावास और 50 हजार रुपये के अर्थदंड की सजा सुनाई गई.अर्थदंड जमा होने की पर 30 हजार रुपये बड़ी बेटी और 10 हजार रुपये छोटी बेटी को दिए जाएंगे. इसके साथ ही अर्थदंड जमा नहीं करने पर सजा को 6 महीने और बढ़ा दिया जाएगा.

Related posts

भारत-बांग्लादेश क्रिक्रेट टेस्ट मैच में दिखेगा मेरठ की पिंक बॉल का जलवा

Deepanshi

मेरठ: नकली पुलिस बन सराफा कारोबारी से लूटा 12 लाख का सोना

Deepanshi

मेरठ में पुजारी ने 2 साल की मासूम को बनाया हवस का शिकार

Deepanshi

अब रेल नीर की बोतलों पर चढ़ेगा भगवा रंग!

Deepanshi

10 रुपए के लिए युवक ने दोस्त को चाकू से गोदकर मार डाला

Deepanshi

मेरठ:आंखों में पट्टी बांधकर बच्चों ने बताए कपड़ों के रंग!

Deepanshi

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More