Local Heading

मुरादाबाद वासियों ने को.. रो.. ना.. के पोस्टर घरों के गेट पर चिपकाए

प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए संबोधन का महानगर में असर देखने को मिला. लोगों ने अपने गेट पर को रो ना पोस्टर लगाकर पीएम मोदी का समर्थन किया.

मुरादाबाद(Moradabad): पूरे विश्व में वैश्विक बीमारी का रूप ले चुकी कोरोना वायरस जैसी जानलेवा बीमारी से हमारा देश भी अछूता नहीं रह गया है. जिसको लेकर देश के प्रधानमंत्री काफी गंभीर हैं १९ मार्च को देशवासियों को सचेत करने के बाद मंगलवार को रात 8 बजे एक बार फिर प्रधानमंत्री मीडिया के जरिये देश की जनता से रूबरू हुए और इस कोरोना वायरस से फैलने वाले संक्रमण से बचाव का सीधा रास्ता बताया.

इसे भी पढ़े: मुरादाबाद: तनाव के चलते चालक ने फांसी लगाकर की खुदकुशी

पीएम मोदी ने कहा 12 बजे से पूरे देश को लॉक डाउन का एलान कर दिया कि जनता अपने घरों से बाहर न निकले.क्यूंकि कोरोना संक्रमण एक दुसरे के सम्पर्क में  आने के बाद ज्यादा तेजी से फ़ैल रहा है.प्रधानमंत्री द्वारा संबोधन के दौरान पूरे देश में लॉक डाउन एलान और उनके द्वारा कोरोना को लेकर एक पोस्टर दिखाए जाने के बाद उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद में वो नजारा देखने को मिला. जिसे देख आप भी जागरूक हो जायेंगे.

मुरादाबाद के लोगों ने रात में ही अपने अपने दरवाजों पर लॉक डाउन के पोस्टर चिपकाना शुरू कर दिए और 21 दिन तक बाहर न निकलने की ठान ली है. मुरादाबाद निवासियों का साफ साफ कहना है कि. अगर कोरोना को हराना है तो प्रधानमंत्री के आदेशों का पालन ही एकमात्र रास्ता है. अब सड़कों पर बिल्कुल नहीं निकलना. ये कहते हुए अपने घरों में बन्द हो गये. इतना ही नहीं घरों के साथ साथ मंदिर के मुख्य द्वार पर भी लॉक डाउन के पोस्टर लगाकर. मन्दिरों के कपाट भी 21 दिनों तक बन्द कर दिए गए.

अपने दरवाजे पर अपने हाथों में प्रधानमंत्री द्वारा दिखाए गए को-रो-ना- पोस्टर की कॉपी को थामे हुए महिलाओं का कहना है कि प्रधानमंत्री सम्बोधित कर रहे है कि रात 12 बजे से सम्पूर्ण भारत में लॉक डाउन किया जा रहा है.इसका मतलब ये है कि कोरोना वायरस तेजी से पूरे देश में ही नहीं सम्पूर्ण विश्व में बहुत तेजी से संक्रमित हो रहा है. इस संक्रमण को रोकने के लिए उन्होंने घर पर ही रहने की अपील की है. और जो पोस्टर प्रधानमन्त्री ने दिखाया है उसका मतलब को—कोई ,,रो—रोड पर , ना का मतलब है नहीं निकले इसका मतलब ये है कोई भी व्यक्ति रोड पर न निकले. सभी अपने घर में परिवार सहित सुरक्षित रहें.वरना ये संक्रमण बहुत तेजी से फैलेगा और इसका कोई उपचार भी नहीं है. जाको राखे साइयां मार सके न कोए.जान है तो जहां है. जब हम सुरक्षित हैं सब सुरक्षित हैं.

मुरादाबाद निवासी अमित भी अपने घर के दरवाजे पर वही पोस्टर लगा रहे थे. जो प्रधानमंत्री ने अपने सम्बोधन के दौरान पूरे देश को दिखाया था.अमित का भी कहना है कि प्रधानमंत्री ने २१ दिन का लॉक डाउन हमे टास्क के रूप में दिया है. हम सभी इसे निभाएंगे.प्रधानमन्त्री के  संबोधन के बाद उससे प्रोत्साहन लेकर मैंने कंप्यूटर से कॉपी निकालकर आसपास के घर वालो को बांट दिए.जिसे लोगों ने अपने घर पर लगा लिए हैं.और लगभग सभी लोग इस क्षेत्र में अपने घरों के अंदर जा चुके हैं.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More