Local Heading

कौन बनेगा सातवें दौर का सिरमौर?

2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर देश की सभी राजनीतिक पार्टियां जोर शोर से रैली, जनसभाएं कर रही हैं. वहीं अब लोकसभा चुनाव 2019 भी अब अपने सातवें और अंतिम चरण की ओर बढ़ चला है। अंतिम चरण का मतदान 19 मई को है. 59 सीटों पर अंतिम चरण में वोटिंग होगी.

वहीं, इस चरण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मैदान में हैं. प्रधानमंत्री मोदी लोकसभा क्षेत्र वाराणसी से दोबारा चुनाव लड़ रहे हैं. हालांकि 2014 में, मोदी के खिलाफ 41 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा था. और इस बार यह संख्या घटकर 25 हो गई है. 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी के विरुद्ध अरविन्द केजरीवाल मैदान में थे. उस वक्त मोदी को 5,81,023 जबकि अरविन्द केजरीवाल को कुल 2,09,238 मत हासिल हुए. तीसरे स्थान पर कांग्रेस के अजय राय थे, जिन्हें 75,614 मत हासिल हुए.

आपको बता दें कि सातवें चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर 19 मई को वोट डाले जाएंगे. अंतिम चरण में बिहार के 8, झारखंड के 3, मध्य प्रदेश के 8, पंजाब के13, पश्चिम बंगाल के 9, यूपी के 13, हिमाचल के 4 और चंडीगढ़ लोकसभा सीट पर मतदान होंगे.

इसी चरण में योगी के सामने अपनी गृह जनपद गोरखपुर की सीट बचाने की चुनौती है. जहां बीजेपी ने भोजपुरी फिल्मों के स्टार रवि किशन को मैदान में उतारा है. 2018 में हुए उपचुनाव में भाजपा ने ये सीट गंवा दी थी. उस समय सपा-बसपा और निषाद पार्टी के संयुक्त प्रत्याशी प्रवीण निषाद विजयी हुए थे. इस बार मुक़ाबला भोजपुरी फिल्मों के स्टार और भाजपा नेता रवि किशन, सपा-बसपा गठबंधन के रामभुआल निषाद और कांग्रेस के मधुसूदन तिवारी के बीच है.

अंतिम चरण में बिहार के पटना साहिब, पाटलिपुत्र और सासाराम लोकसभा सीट भी महत्वपूर्ण है. पटना साहिब बिहार की सबसे वीआईपी सीट मानी जाती है. यहां से कांग्रेस के शत्रुध्न सिन्हा का मुकाबला बीजेपी के केद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से है. शत्रुघ्न सिन्हा पिछले दो बार से पटना साहिब की सीट बीजेपी उम्मीदवार के तौर पर जीतते आए हैं. 2014 में बिहार की पटना साहिब लोकसभा सीट पर हुए चुनाव में उस वक्त भाजपा में शामिल फिल्मी सितारे शत्रुघ्न सिन्हा ने कांग्रेस के उम्मीदवार कुणाल सिंह, जदयू के कैंडिडेट गोपाल प्रसाद सिन्हा और समाजवादी पार्टी के उमेश कुमार को मात देते हुए 4 लाख 85 हजार 905 वोटों की सहायता से धमाकेदार जीत दर्ज की थी.

पाटलीपुत्र में आरजेडी की मीसा भारती और बीजेपी के रामकृपाल यादव के बीच कड़ी टक्कर है. 2014 के लोकसभा चुनाव में रामकृपाल यादव ने 3,83,262
मत हासिल किए थे. जबकि दूसरे स्थान पर रही लालू यादव की बेटी मीसा भारती कुल 3,42,940 मत हासिल कर पाई.

सातवें चरण में सासाराम लोकसभा सीट भी कम लोकप्रिय नहीं है.यहाँ पिछले बार की तरह मुख्य मुकाबला महागठबंधन प्रत्याशी कांग्रेस नेता और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की तरफ से बीजेपी नेता छेदी पासवान के बीच है. यहां 13 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. इस सीट पर जहां मीरा कुमार के सामने अपने पिता बाबू जगजीवन राम की विरासत बचाने की चुनौती है, तो वहीं बीजेपी प्रत्याशी छेदी पासवान के सामने इस क्षेत्र से चौथी बार जीत दर्ज करने की चुनौती है. 2014 के लोसभा चुनाव में छेदी पासवान विजयी रहे थे. उन्हें कुल 3,66,087 जबकि मीरा कुमार को कुल 3,66,087 मत हासिल हुए थे.

सनी देओल के राजनीतिक सफर का फैसला भी सातवें चरण में हो जाएगा. क्योंकि सनी देओल पंजाब के गुरदासपुर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. जहां सनी देओल का मुकाबला बलराम जाखड़ के बेटे और कांग्रेस सांसद सुनील जाखड़ से है. पिछले बार सुनील जाखड़ को कुल 4,99,752 मत हासिल हुआ. जबकि उनके प्रतिद्वंदी बीजेपी के स्वर्ण सलारिया को केवल 3,06,533 मत हासिल हुआ.

23 मई को मतगणना है उसके पहले 19 मई सभी राजनीतिक दलों के लिए मील का पत्थर है. अंतिम चरण के मतदान में न सिर्फ 59 लोकसभा सीटों का फैसला होगा बल्कि जो पार्टी बढ़त बना पाएगी उनके लिए राहें आसान हो जाएगी.

Lok Sabha Election 2019

Voting is set to take place in eight states and Union Territories – 59 constituencies – in the 7th and final phase of polling in the Lok Sabha Election 2019 on 19 May.

Related posts

अरुण जेटली के बारे में ये बातें नहीं जानते होंगे आप

Harish Singh

ऐसे अद्भुत, अनोखे व्यक्तित्व के स्वामी थे अरुण जेटली, जानकर रह जाएंगे दंग

Ravinder Kumar

अरुण जेटली ने ऐम्स में ली अंतिम सांस, लंबे समय से चल रहे थे बीमार

Pranav Mishra

पी.चिदंबरम की ये कहानी, आपको कोई नहीं बतायेगा

Ravinder Kumar

Ravidas Temple: मंदिरों को लेकर आखिर क्यों गर्मा जाती है सियासत?

Ravinder Kumar

ग्रामीणों ने प्रधानमंत्री मोदी के नाम लिखी खून भरी चिट्ठी, धरने पर बैठे

Harish Singh

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More