Local Heading

‘चिंता न करा हम दिल्ली जाईत ही, नौकरी करय’ बोलकर बेटे ने जान दे दी

प्रयागराज(Prayagraj): जिले में एक कक्षा 8 में पढ़ने वाले बच्चे ने आत्महत्या कर ली. बुधवार को यमुना पुल पर आकर्ष पहुंचा और नदी में कूद गया. उसने पुल पर सुसाइड नोट छोड़ा था. उसपर लिखे नंबर से घर वालों को सूचना दी गई.

घरवालों के आते ही पता चला कि आकर्ष 8 फरवरी से ही लापता था. घटना से दो घंटे पहले उसने बाबा को फोन कर कहा था कि वह दिल्ली नौकरी करने जा रहा है. मृतक के पिता ने यह भी बताया कि कक्षा आठ में पढ़ने वाले आकर्ष का पेपर खराब हो गया था. इससे वह बेहद आहत था.आकर्ष सरदार पटेल इंटर कालेज, सिकरो कोरांव में आठवीं का छात्र था. उसकी परीक्षा चल रही थी. 8 फरवरी का पेपर उसका खराब हो गया था. जिससे वह बिना किसी सूचना के गायब हो गया. परेशान घरवालों ने उसकी गुमशुदगी कोरांव थाने में दर्ज कराई. पता चलने पर उसके पिता भी मुंबई से घर आ गए थे. सब लोग उसे ढूंढ ही रहे थे कि 12 फरवरी की शाम को चार बजे उसने फोन किया कि वह दिल्ली नौकरी करने जा रहा है. घर वालों ने उसे वापस लौटने को कहा लेकिन उसने फोन काट दिया था.

फोन पर क्या बात हुई
हेलो बाबू! हम आकर्ष बोली थी, कैसे बाट्या, चिंता न करा हम दिल्ली जाईत ही, नौकरी करय, चार महीना बाद लउटब. जवाब में बाबा ने कहा कि बिटवा जब तुही ईहां नहीं हय तव कइसे ठीक रहब हो. नहीं बाबू चिंता न करा, हम ठीक अही.

उसके सही सलामत होने पर घरवालों ने राहत की सांस ली ही थी कि 2 घंटे बाद घर में मातम पसर गया. पुलिस ने फोन कर बताया कि उनका बेटा करीब पांच बजे नए पुल के कीडगंज साइड में पहुंचा और सुसाइड नोट लिखकर रेलिंग पर चढक़र यमुना में छलांग लगा दी. गार्ड ने देखा तो पुलिस को सूचना दी. सूचना मिलते ही देर रात पूरा परिवार कीडगंज थाने पहुंचा. फिलहाल सुबह उसे खोजने के लिए गोताखोरों को लगाया जाएगा.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More