Local Heading

Honor killing:बेटी को जलाकर पिता और चाचा ने नदी में बहा दिए राख

प्रयागराज(Prayagraj): अब से करिब 8 साल महीने पहले प्रीती के गायब होने की रिपोर्ट उसके पिता और चाचा ने पुलिस के पास गर्ज किया था. कार्रवाई भई चल रही थी. लेकिन आज जब सच सामने आया और पता चला की प्रीती अब कभी वापस नहीं आएगी तो सबके होश उड़ गई. अससे भी ज्यादा दिल दहलाने वाली बात थी की प्रीती की हत्या किसी और ने नहीं बल्कि उसी के पापा और तीन चाचा ने ही मिलकर की थी. और वजह वही की प्रीती किसी से प्यार करती थी और यह उसके घर के शान के खिलाफ था.

क्या है पूरा मामला?
यह घटना ऑनर किलिंग से जुड़ी है. अंतू थाना क्षेत्र के नंदलाल का पुरवा गांव निवासी प्रीती वर्मा पुत्री राजू वर्मा के गायब होने का मुकदमा उसके चाचा राजेश वर्मा ने 15 मई 2019 को अंतू थाने में दर्ज कराया था. मुकदमा दर्ज करके जिस प्रीती को पुलिस तलाश कर रही थी, उसकी हत्या 13 मई 2019 को उसके पिता राजू, चाचा राजेश, जमुना प्रसाद और बृजेश ने की थी. हत्या के अगले दिन 14 मई को शव सिंघनी घाट पर जला दिया था. शव के साथ प्रीती के मोबाइल को भी जला दिया था और राख उठाकर सई नदी में फेंक दिया था.

आरोपी पिता राजू वर्मा ने बताया कि प्रीती गांव के ही फूलचंद्र वर्मा के भांजे राहुल वर्मा उर्फ दीपक से प्रेम करती थी. इसी कारण हम जल्द से जल्द उसकी शादी कहीं और कर देना चाहते थे. 13 मई 2019 को प्रीती की सगाई थी. इस दिन वह अपने प्रेमी राहुल से मिलने चली गई. सूचना पर हम लोग पहुंचे तो राहुल भाग निकला. प्रीती को पकड़कर हम घर ले आए. वह राहुल से ही शादी करने की जिद पर अड़ी थी. इस पर चारों भाइयों ने क्रोध में आकर उसकी पिटाई शुरू कर दी. बाद में गला दबाकर हत्या कर दी. अगले दिन प्रीती के शव को पूरब गांव में नदी के किनारे सिंघनी घाट पर ले जाकर जला दिया. उसी आग में प्रीती का मोबाइल भी जला दिया और राख उठाकर नदीं में फेंक दी. घटना को छिपाने के उद्देश्य से थाने में प्रीती की गुमशुदगी दर्ज करा दी. पुलिस ने प्रीती की हत्या के आरोपी पिता राजू वर्मा, चाचा जमुना प्रसाद वर्मा व राजेश वर्मा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. एक अन्य अभियुक्त चाचा बृजेश वर्मा की गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है.

ये भी पढ़ें:CAA का 1 लाख लोगों ने मिस्ड कॉल कर किया समर्थन

ऑनर किलिंग का शिकार हुई अंतू थाना क्षेत्र के राजापुर रनिया गांव की प्रीती वर्मा ने प्रेमी राहुल के साथ मंदिर में शादी कर ली थी. इस बात की भनक परिवार के लोगों को नहीं लगी थी. परिवार के दबाव में प्रीति भले ही किसी और के साथ सगाई के लिए राजी हो गई थी, लेकिन मामला शांत होने पर दोनों ने कोर्ट मैरिज करने की तैयारी कर रखी थी. सगाई के दिन ही वह राहुल से मिलने चली गई. इसकी जानकारी उसके परिजनों को हो गई. वह राहुल की तलाश में ही निकले थे, लेकिन वह प्रीती के घरवालों को आते देख भाग निकला. प्रीती के गायब होने के बाद भी राहुल उर्फ दीपक उसकी तलाश करता रहा. उसके गांव आने के बजाए वह बगल के गांव में रिश्तेदारी में आकर उसके बारे में जानकारी जुटाता रहा. उसने पुलिस को बताया कि उसे कुछ लोगों से यह जानकारी मिली थी कि घरवालों ने ही प्रीती को मार डाला है.

पुलिस लाइन के सई कांप्लेक्स में बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस में एसपी अभिषेक सिंह ने घटना का राजफाश किया. पुलिस फिलहाल चौथे आरोपी की तलाश में लगी हुई है.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More