Local Heading

बूंदी: ब्लड बैंक के कर्मचारियों ने किया कार्य का बहिष्कार

बूंदी जिला ब्लड बैंक में भी लैब टेक्नीशियन हड़ताल पर है. जिससे ऑपरेशन और गंभीर बीमारी से ग्रस्त मरीजों को ब्लड के लिए इधर-उधर भटकना और परेशान होना पड़ गया.

बूंदी(Bundi): मेडिकल कॉलेज माइक्रोबायोलॉजी लैब जयपुर में डॉक्टर व लैब टेक्नीशियन मारपीट मामले में लैब टेक्नीशियन को सस्पेंड करने के विरोध में आज प्रदेश भर के लैब टेक्नीशियन कार्य का बहिष्कार कर हड़ताल पर रहे. जिसके चलते प्रदेशभर में कोविड-19 की जांचे व ब्लड बैंकों में रक्त के लिए मरीज और परिजन परेशान होते नजर आए. इसी के चलते आज बूंदी जिला ब्लड बैंक में भी लैब टेक्नीशियन हड़ताल पर है. जिससे ऑपरेशन और गंभीर बीमारी से ग्रस्त मरीजों को ब्लड के लिए इधर-उधर भटकना और परेशान होना पड़ गया. ब्लड नहीं मिलने से कहीं मरीजों की जान सांसत में आ गई.

इसे भी पढ़े: फिरोजाबाद: राशन वितरण मे धांधली का विरोध कार्ड धारक को भारी पड़ा

हालांकि लैब टेक्नीशियन ने इमरजेंसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त, दुर्घटना वाले,थैलेसीमिया जैस गंभीर बीमार और अति आवश्यकता वाले मरीजों को ब्लड उपलब्ध कराना जारी रहा है. गौरतलब है कि मारपीट की घटना के बाद देर रात तक चली वार्ता बेनतीजा होने के बाद लैब टेक्नीशियनो ने प्रदेश भर में कार्य बहिष्कार का ऐलान कर दिया था. जिसके चलते आज जिला अस्पताल ब्लड बैंक का संपूर्ण स्टाफ कार्य का बहिष्कार करते हुए हड़ताल पर है. जिससे ब्लड बैंक में किसी प्रकार का कार्य नहीं हो सका और ब्लड की आवश्यकता वाले सामान्य मरीज ब्लड के लिए परेशान होते नजर आए.

ब्लड बैंक में आने वाले मरीजों को ब्लड के लिए कोटा जाने को कहा गया. मरीजों द्वारा इसकी सूचना युवा कांग्रेस प्रदेश महासचिव चर्मेश शर्मा को दी. जिसके बाद शर्मा जिला अस्पताल पहुंचे. जहां हड़ताल कर रहे लैब टेक्नीशियन और पीएमओ के सी मीणा से हाथ जोड़ कर मानवता के नाते गंभीर बीमारी , दुर्घटना, गर्भवती महिलाएं, ऑपरेशन एवं अति आवश्यकता वाले मरीजों को ब्लड हेतु कोटा नहीं भेजकर यही ब्लड उपलब्ध कराने का आग्रह किया. जिसको लैब टेक्नीशियनों ने स्वीकार करते हुए अति आवश्यकता वाले मरीजों को ब्लड देना शुरू कर दिया.

जिला अस्पताल लैब टेक्नीशियन हरिशंकर भारती ने बताया कि आज हम जयपुर मेडिकल कॉलेज माइक्रोबायोलॉजी डिपार्टमेंट में चिकित्सक द्वारा लैब टेक्नीशियन के साथ मारपीट करने की घटना और घटना के बाद विभागीय अधिकारी द्वारा लैब टेक्नीशियन को सस्पेंड करने की घटना के विरोध में प्रदेश व्यापी आवाहन पर कार्य का बहिष्कार करते हुए हड़ताल पर हैं. जब तक लैब टेक्नीशियन को दोबारा बहाल नहीं किया जाता. जब तक उक्त चिकित्सक द्वारा लैब टेक्नीशियन से माफी नहीं मांग ली जाती तब तक हड़ताल व कार्य का बहिष्कार जारी रहेगा. लेकिन कार्य के बहिष्कार के बीच भी हमारे द्वारा मानवता के नाते गंभीर बीमारी, गर्भवती महिलाओं,थैलेसीमिया मरीजों,दुर्घटनाग्रस्त मरीजों और ऑपरेशन वाले मरीजों को ब्लड उपलब्ध कराना जारी रखा है.

युवा कांग्रेस प्रदेश महासचिव चर्मेश शर्मा ने बताया कि आज कुछ मरीज जो सुबह से ब्लड के लिए परेशान हो रहे थे. मुझे सूचना दी कि जिला अस्पताल में ब्लड बैंक के कर्मचारी हड़ताल पर है. और ब्लड देने से मना करते हुए ब्लड के लिए कोटा जाने को बोल रहे हैं. इसके बाद में जिला ब्लड बैंक पहुंचा तथा हड़ताल कर रहे. लैब टेक्नीशियन और पीएमओं से हाथ जोड़कर इमरजेंसी मरीजों को ब्लड उपलब्ध कराने की माग की. जिसके बाद लैब टेक्नीशियन गंभीर बीमारी से ग्रस्त अति आवश्यकता वाले मरीजों को ब्लड देने के लिए तैयार हो गए.

रिपोर्टर- कमलेश शर्मा (बून्दी)

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More