Local Heading

फैक्ट्री में बच्चों से लिया जा रहा था इतना काम…बड़े भी सुनकर हो रहे हैरान

अजमेर । अजमेर की मानव तस्करी विरोधी यूनिट ने दरगाह थाना क्षेत्र में चल रही दो फैक्ट्रियों से आठ बालश्रमिकों को मुक्त करवाया है। इन फैक्ट्रियों में बच्चों का पिछले कई सालों से शोषण किया जा रहा था।
यूनिट प्रभारी अशोक बिश्नोई ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि दरगाह सम्पर्क सड़क के पास दो आरी-तारी की फैक्ट्रियां संचालित की जा रही है। इनमें बड़ी संख्या में बाल श्रमिकों को खपाया गया है। इनसे 12 से 14 घंटे तक काम लिया जा रहा है। इसकी एवज में उन्हें केवल मात्र 3 से 4 हजार रुपये दिए जाते हैं। फैक्ट्रियों में लगाए गए बच्चों की उम्र मात्र 6 से 13 साल है। इन फैक्ट्रियों में बच्चों के रहने व खाने-पीने की भी उचित व्यवस्था नहीं है। ऐसे में फैक्ट्री संचालक पश्चिम बंगाल निवासी हबीबुर्रहमान व शेख मसीहुर्रहमान को गिरफ्तार किया गया है। इनके विरूद्ध दरगाह थाने में मुकदमा भी दर्ज करवाया गया है।
बच्चों को चाईल्ड लाईन के माध्यम से बाल न्यायालय में पेश कर परिजनों के सुपुर्द करवाने की कार्रवाई भी करवाई जा रही है। आपको बता दें कि पिछले कुछ समय में मानव तस्करी यूनिट ने कई बच्चों को बालश्रम से मुक्त करवाकर आजाद जिंदगी जीने के लिए आजाद करवाया है। इससे पहले इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा था। यूनिट की कार्रवाई के बाद चाय की थड़ियों, दुकानों व अन्य जोखिम भरे काम में लगे बालश्रमिकों को संचालकों ने अपने स्तर पर ही हटा दिया है।

Related posts

भारतीय नागरिकता मिलने पर जैसलमेर में वर्षों से रह रहे पाक विस्थापितों के चेहरे खिले

Shankardan Detha

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवसः जागरुकता रैली को हरी झण्डी दिखाकर किया गया रवाना

Shankardan Detha

कस्बे में मिली महिला की सिर कटी लाश

Pragati Raj

मिसालः आंखों से नहीं, याददाश्त की नजर से दुनिया को देखते हैं सांवल सिंह

Shankardan Detha

पश्चिम बंगाल का असर: जैसलमेर में ठप्प रही स्वास्थ्य सेवाएं

Ramta

हथियारो के जखीरे के साथ पकड़ा गया हथियारो का सप्लायर

Saleem Malik

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More