Local Heading

नौ साल पहले युवक अपनी मां से झगड़कर घर छोड़कर जा रहा था। नौ साल बाद अब मिला बच्चे का कंकाल…

बांदा । नौ साल बाद एक बच्चे का कंकाल मिलने से उसकी हत्या का राज खुला है। गांव के पडोसी युवक ने बच्चे के पिता से मामूली विवाद पर उसकी हत्या कर शव अपने घर के पीछे दबा दिया था। हत्यारे और उसके भाई के विवाद के बाद आज उसके भाई ने हत्या का खुलासा किया। पुलिस ने गढ्ढा खुदवाकर बच्चे का कंकाल निकाला व हत्यारे युवक को गिरफ्तार कर लिया। बच्चे की हत्या के मामले में नौ साल पहले पुलिस ने तीन लोगो को जेल भी भेजा था।
सबको चौका देने वाला मामला बांदा जनपद के गिरवां थाना क्षेत्र के सहेवा गांव का है, जहां 2010 में 6 साल का भोला लापता हो गया था। उस समय पुलिस ने तीन लोंगो को गिरफ्तार कर जेल भी भेज दिया था। तीनो लोग सजा काटकर जमानत पर बाहर भी आ चुके हैं। दो दिन पहले गांव के एक युवक का अपने छोटे भाई से झगड़ा हो गया था। इसके बाद उसने जाकर बच्चे के पिता को बड़े भाई द्वारा बच्चे की हत्या कर उसका शव घर के पीछे आंगन में दाबने की जानकारी दी। इसपर बच्चे के पिता ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने सूचना के आधार पर गढ्ढे को खुदवाया तो उसमे बच्चे का कंकाल मिला।
इसके बाद पुलिस ने हत्यारे युवक को गिरफ्तार कर लिया है। मृत बच्चे के पिता राजू मिश्रा ने बताया की नौ साल पहले गांव के पड़ोस का युवक अपनी मां से झगड़कर घर छोड़कर जा रहा था, तब वह युवक की मां को बाइक में लेकर बस अड्डे गया था और युवक को समझाकर घर जाने को कहा था। मना करने पर अपनेपन में उसे एक थप्पड़ मार दिया था, इसी से नाराज होकर उसने इस घटना को अंजाम दिया है। ग्राम प्रधान ने बताया की बच्चे के पिता राजू मिश्रा का गांव में किसी से कोई विवाद नहीं था, पर घर से नाराज होकर जाने वाले युवक को घर पहुंचाने से नाराज होकर युवक ने इस घटना को अंजाम दिया था, जिसपर पुलिस ने बच्चे का कंकाल निकलवाकर पोस्ट-मार्टम को भेज दिया है व पुलिस ने हत्यारे को गिरफ्तार कर लिया है ।

Related posts

चॉकलेट के लिए मेडिकल कॉलेज की छात्राओं के बीच जमकर चले लात-घूंसे

Deepanshi

दिन दहाड़े शिक्षक की मौत, प्रेम प्रसंग में गयी जान

Asif Ali

एन्टीरोमियो स्क्वायड द्वारा बालिका सुरक्षा जागरूकता अभियान

Pebble Originals

शौचालय पर लटका ताला, कहां जा रहे गांव वाले

Asraf Ansari

इस गांव में होती है मरे हुए लोगों की शादी!

Deepanshi

थाने में चलाया गया स्वछता अभियान

Asraf Ansari

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More