Local Heading

अब सड़कों के गड्ढे गायब करेगा एंड्रॉयड फोन!

कानपुर- अगर आप सड़कों पर गड्ढों से परेशान हैं और कहीं पर भी सड़कों पर बने गड्ढों को लेकर सुनवाई नहीं हो रही है तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है. अब गड्ढों की इस समस्या से आपको आपका एंड्रॉयड फोन बचाएगा. आपको बस इसके लिए एक ऐप डॉउनलोड करना होगा और हर फोटो क्लिक करके अपनी समस्या लिखते हुए एप पर जाकर सबमिट कर देना होगा. जिसके बाद बस खुद-ब-खुद शासन की ओर से निर्देश जारी होना शुरू हो जाएंगे और आपको सड़कों पर गड्ढों से निजात मिल जाएगा.

ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि लोक निर्माण विभाग की ओर से बनाया गया निगरानी ऐप (यूपीपीडब्ल्यूडी फॉर सिटीजन) को लेकर खुद पीडब्ल्यूडी के अधिकारी इसकी जानकारी दे रहे हैं. कानपुर के पीडब्ल्यूडी विभाग की माने तो शासन की ओर से दिशा निर्देश का पालन करते हुए लोक निर्माण विभाग ने आम जनमानस की सुविधा के लिए निगरानी एप बनाया है. इसको डाउनलोड करने के लिए आपको अपने एंड्रॉयड फोन के प्ले स्टोर पर जाना होगा और यूपीपीडब्ल्यूडी फॉर सिटीजन लिखना होगा. आपके सामने ऐप डाउनलोड करने का ऑप्शन आ जाएगा ऐप डाउनलोड करते ही आईडी जनरेट करने के लिए आपका नाम ,मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी आप को पंजीकृत करनी होगी. यह सब करते ही ऐप पर आप का रजिस्ट्रेशन हो जाएगा.

रजिस्ट्रेशन के पश्चात आपको अपने एंड्रॉयड फोन पर लोकेशन ऑन करनी होगी और लोकेशन ऑन करने के पश्चात जिस सड़क पर गड्ढा है, उसकी फोटो खींचनी होगी. फोटो खींचते ही एप पर अपलोड का ऑप्शन आएगा और सिर्फ आपको अपनी शिकायत लिखते हुए फोटो अपलोड कर देनी है. फोटो अपलोड करते ही शासन स्तर से पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों के लिए दिशा निर्देश जारी हो जाएंगे और समय सीमा तय की जाएगी और साथ ही साथ उसी समय सीमा के अंदर पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को आपकी समस्या से आपको निजात दिलाना होगा.

रिपोर्ट- अवनीश कुमार

Related posts

मोटर ड्राइविंग स्कूल से हादसों में आएगी कमी

Avnish Singh

घर बैठे 2 मिनट में ऐसे लें AIIMS में अपॉइंटमेंट, नहीं खाने पड़ेंगे धक्के

Harish Singh

प्रतियोगी परीक्षाएं पास करने के लिए सबसे पहले करें ये काम!

Deepanshi

उत्तराखंड का बजा डंका, डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘मोतीबाग’ ऑस्कर के लिए हुई चयनित

Harish Singh

दिल्ली में चंद मिनटों में तय होगा, आधे घंटे का सफर

Ravinder Kumar

स्वच्छता पर पलिताः सड़क के किनारे बिखरा कूड़ा, बना आवारा पशुओं का अड्डा

Jagdish Pokhariyal

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More