Local Heading

Navratri 2019: इस मंदिर में देवी के दर्शन मात्र से पूरी होती मनोकामना

मंदिर में मंसा देवी के दर्शन के साथ यहां मौजूद स्नेही वृक्ष पर डोरी बांधने की भी परंपरा भी सदियों पुरानी है. मंदिर परिसर में स्थित यह वृक्ष वर्षों पुराना है

देहरादूनः(Dehradun)। नवरात्रि के दौरान मंदिरों में देवी मां के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की लंबी कतार लगी हुई है. नवरात्रि में देवी मां के नौ अलग-अलग स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है. धर्मनगरी हरिद्वार में विश्व प्रसिद्ध हरकी पैड़ी के पास शिवालिक पर्वतमाला की श्रृंखलाओं के मुख्य शिखर पर सनातन हिंदू श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र मां मंसा देवी मंदिर स्थित है. मान्यता है कि मां मंसा देवी के दर्शन मात्र से ही सभी दुख दूर हो जाते हैं. मंदिर में मंसा देवी के दर्शन के साथ यहां मौजूद स्नेही वृक्ष पर डोरी बांधने की भी परंपरा भी सदियों पुरानी है. मंदिर परिसर में स्थित यह वृक्ष वर्षों पुराना है. मान्यता है कि मां के दर्शन करने के बाद इस वृक्ष पर डोरी बांधने से मां भक्त की हर मनोकामना पूरी करती है.

पौराणिक मान्यता

आपको बता दें कि मां मंसा देवी मंदिर का उल्लेख स्कंद पुराण में भी आता है. स्कंद पुराण में मंसा देवी को दसवीं देवी माना गया है. पौराणिक कथाओं के अनुसार एक बार जब महिषासुर नामक राक्षस और देवताओं के बीच युद्ध हुआ. इस युद्ध में महिषासुर ने देवताओं को पराजित कर दिया. युद्ध में पराजित होने के बाद देवताओं ने मदद के लिए देवी का स्मरण किया. देवताओं के आह्वान पर देवी ने प्रकट होकर महिषासुर राक्षस का वध कर दिया.

इस पर देवताओं ने देवी की पूजा अर्चना की और देवी से कहा कि हे देवी जिस प्रकार आपने हमारी मंशा को पूरा किया, इसी प्रकार कलियुग में भी भक्तों की मंशा को पूरा कर उनकी विपत्ति को दूर करें. दंत कथाओं के अनुसार युद्ध के बाद देवी ने हरिद्वार की शिवालिक मालाओं के मुख्य शिखर के पास ही विश्राम किया. इसी कारण से यहां मंसा देवी मंदिर की स्थापना हुई. मान्यता है कि इसी जगह पर मंसा देवी की मूर्ति भी प्रतिष्ठापित हुई. कालांतर में यहां मंदिर बनाया गया और मंदिर में आज भी मां मंसा देवी की मूर्ति विराजमान है.

स्नेही वृक्ष

इस मंदिर में विराजमान मां मंसा देवी सभी प्रकार की इच्छाओं की पूर्ति करती है. हर साल यहां रोजाना दूर-दराज के यात्री व स्थानीय लोग मां के दर्शन करने के लिए पहुंचते हैं. मान्यता है कि मंदिर में स्नेही वृक्ष पर डोरी बांधने से श्रद्धालुओं की सभी प्रकार की मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं. इसलिए अपनी मनोकामना को पूरा करने के लिए श्रद्धालु नवरात्रों में यहां आकर मां मंसा देवी के दर्शन और स्नेही वृक्ष पर डोरी बांधने के लिए आते हैं.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More