Local Heading
ग्राम पंचायतों में अब अनपढ़ नहीं ले पाएंगे हिस्सा, पढ़ी-लिखी होगी आपकी पंचायत 2

ग्राम पंचायतों में अब अनपढ़ नहीं ले पाएंगे हिस्सा, पढ़ी-लिखी होगी आपकी पंचायत

पंचायत चुनाव लड़ने के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता हाईस्कूल पास रखी गई है। पंचायत चुनाव के लिए इस तरह का प्रावधान करने वाला उत्तराखंड देश का पहला राज्य बन गया है

देहरादून। बुधवार को उत्तराखंड भारत का ऐसा पहला राज्य बन गया है जहां पंचायत में अब केवल पढ़े-लिखे लोग ही शामिल होंगे। प्रदेश की ग्राम पंचायतों में अनपढ़ आदमी के लिए नो एन्ट्री का यह बोर्ड विधानसभा के विशेष सत्र के तीसरे दिन ऐतिहासिक पंचायती राज एक्ट का संशोधित बिल सदन में पारित करके लगाया गया है। इतना ही नहीं इस एक्ट के दायरे में अब दो बच्चों से ज्यादा वाले मां-बाप भी पंचायत चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। पंचायत चुनाव लड़ने के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता हाईस्कूल पास रखी गई है। पंचायत चुनाव के लिए इस तरह का प्रावधान करने वाला उत्तराखंड देश का पहला राज्य बन गया है।


सदन में पारित होने के बाद अब इस एक्ट को राज्यपाल के पास मंजूरी के लिए भेजा जायेगा जहां से मंजूरी मिलते ही यह विधेयक तत्काल प्रभाव से प्रदेश में लागू हो जाएगा। राज्य विधान सभा में सरकार द्वारा पास इस बिल के अनुसार ग्राम पंचायतों में चुनाव लड़ने के लिए सामान्य वर्ग के लिए शैक्षिक योग्यता हाई स्कूल पास रखी गई है। जबकि महिला और एससी-एसटी को कुछ छूट देते हुए उनके लिए पंचायत चुनाव में भागीदारी करने के लिए आठवीं पास होने की शर्त पूरी करना ज़रूरी होगा।

अब इस बात की पूरी उम्मीद है प्रदेश में सितंबर महीने में प्रस्तावित पंचायत चुनाव इस एक्ट के आधार पर ही होंगे। विधानसभा में बुधवार को पास हुए इस बिल पर विपक्ष द्वारा अन्य मुद्दों को लेकर हंगामे किये जाने के कारण व्यापक चर्चा नहीं हो सकी। हंगामे के बीच ही सरकार की ओर से बिल पारित होते ही सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया।

Related posts

कानपुर के किसानों को विकसित करेगी विकल्प फार्म-पद्मश्री सुभाष पालेकर द्वारा किया जायेगा लोकार्पण

Shubham Gaur

नहीं कम हो रहा मच्छरों का आतंक (Mosquito terror) दो की ली जान कई बुखार की चपेट में

Manish Dubey

बर्थडे पार्टी में गए युवक की गोली मारकर हत्या, 5 गिरफ्तार-Delhi

Ramta

कानपुर वालों कभी इन बातों पर ध्यान दिया क्या…

Shubham Gaur

दिल्ली आ रहे हैं तो ये खबर आपके लिए है

Ravinder Kumar

कमल का फूल कैसे बन रहा किसान की आय का जरिया?

Navneet Chouhan

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More