Local Heading

अयोध्या के बाद फिर होगा मंदिर-मस्जिद का विवाद

वाराणसी(Varanasi): राम मंदिर पर फैसले के बाद अब जिले के काशी विश्वनाथ मंदिर के पास मौजूद ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर एक के बाद विवाद खड़ा हो रहा है. बीते दिनों हिंदू पक्षकारों की तरफ से कोर्ट में मस्जिद के पुरातात्विक सर्वेक्षण कराए जाने को लेकर अभी सुनवाई शुरू भी नहीं हो पाई है कि इसी बीच श्री काशी विश्वनाथ ज्ञानवापी मुक्ति आंदोलन करने की तैयारी की जाने लगी है.

याचिकाकर्ता सुधीर सिंह ने इस आंदोलन की शुरुआत कर सिविल जज सीनियर डिवीजन के कोर्ट में एक वाद दाखिल किया है, जिसमें उन्होंने मुगलकाल में मंदिर को तोड़कर ज्ञानवापी मस्जिद बनाए जाने की बात कहते हुए मुस्लिम पक्षकारों से ज्ञानवापी मस्जिद को हिंदुओं को सुपुर्द करने की अपील की है. इस बारे में याचिकाकर्ता सुधीर सिंह ने बताया कि काशी विश्वनाथ ज्ञानवापी मुक्ति आंदोलन की शुरुआत महाशिवरात्रि यानी 21 फरवरी से वह वाराणसी में करने जा रहे हैं. साथ ही उनका कहना है कि यह आंदोलन तब तक चलेगा, जब तक उनहें सफलता नहीं मिल जाती.

सुधीर सिंह का कहना है कि श्री काशी विश्वनाथ मंदिर अनादि काल से है और इस बात का सबूत साफ तौर पर दिखता है कि ज्ञानवापी मस्जिद का निर्माण मंदिर को तोड़कर किया गया. मस्जिद के पीछे हिस्से में मंदिर के सबूत साफ तौर पर दिखाई देते हैं. कोर्ट में पुरातात्विक सर्वेक्षण कराए जाने को लेकर चल रही बहस पर कोई कुछ कहने की जरूरत ही नहीं है.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More