Local Heading

ऑस्ट्रेलिया में 10,000 ऊंट मारे जाएंगे, वजह जानकर रह जायेंगे दंग

Camel
ऊंट हर साल 1 टन कार्बन डाइऑक्साइड छोड़ते हैं, जो सड़कों पर 4,00,000 अतिरिक्त कारों के बराबर है।

ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में आग की खबर सभी को मिली और वहां के नागरिक परेशान हैं। इस वजह से पीने के पानी की भी कमी हो गई है। इस समस्या से निपटने के लिए वहां की सरकार अलग-अलग योजनाएं बना रही है। हाल ही में उन्होंने इस बारे में जो समाधान निकाला है, वह चौंकाने वाला है।

दरअसल, दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया के सूखाग्रस्त इलाकों में पानी की कमी से निपटने के लिए 10,000 ऐसे जंगली ऊंट मारे जाएंगे।

इस खबर के आने के बाद सभी के होश उड़ गए हैं। Anangu Pitjantjatjara Yankunytjatjara (APY) के आदिवासी नेताओं ने बुधवार को यह आदेश जारी किया।

इसके अनुसार, कुछ पेशेवर निशानेबाज़ दक्षिण ऑस्ट्रेलिया में हेलीकॉप्टर द्वारा 10,000 से अधिक जंगली ऊंटों को मारेंगे। इस क्षेत्र के लोग पिछले कुछ दिनों से इन ऊंटों के बारे में शिकायत कर रहे थे। उनका कहना है कि “इस क्षेत्र में पानी की कमी के कारण, ऊंट घर के पास के जल स्रोत को नष्ट कर रहे हैं।

“इस समस्या को हल करने के लिए, नेताओं ने इन जानवरों को मारने का फैसला किया है। उनका मानना ​​है कि, “ये जानवर ग्लोबल वार्मिंग भी बढ़ा रहे हैं। वे एक वर्ष में एक टन कार्बन डाइऑक्साइड के बराबर मीथेन गैस का उत्सर्जन करते हैं।”

रिपोर्ट के अनुसार “ऊंट हर साल 1 टन कार्बन डाइऑक्साइड छोड़ते हैं, जो सड़कों पर 4,00,000 अतिरिक्त कारों के बराबर है।”

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More