Local Heading

#Prayforaustralia: जंगल की आग में 50 करोड़ जानवरों की मौत, जानें पूरी कहानी

bushfire

पिछले कई महीनों से ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग इतनी बढ़ गई है कि अब यह शहरों तक पहुंचने लगी है. इस आग के कारण अब तक कई लोगों और जानवरों की मौत हो चुकी है. वहीं कई लोग बेघर और घायल हो गए हैं. यह आग इतनी भयानक है कि अब इस बात की चिंता होने लगी है कि कहीं इसमें ऑस्ट्रेलिया के सभी जानवर और पेड़-पौधे खत्म न हो जाएं.

आंकड़े बताते हैं कि इस आग में अब तक 500 मिलियन से अधिक जानवरों की मौत हो चुकी है. ऑस्ट्रेलिया में आग सबसे पहले न्यू साउथ वेल्स स्टेट में लगी. राजधानी मेलबर्न और सिडनी इसी स्टेट में समुद्र के किनारे बसे हैं. यहां 70 लाख लोग रहते हैं. बाद में आग न्यू साउथ वेल्स के पड़ोसी स्टेट विक्टोरिया तक पहुंच गई. पिछले हफ्ते तटीय पर्यटक शहर मल्लकूटा के जंगलों में आग लगी थी. इस शहर से लगभग 4000 लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा था.

क्यों लगती है आग?
बता दें कि ऑस्ट्रेलिया के जंगलों की आग प्राकृतिक घटना है. लेकिन, इस साल ऑस्ट्रेलिया में सूखा, रिकॉर्ड स्तर पर पहुंची गर्मी और तेज हवाओं के कारण आग ज्यादा फैल गई. मौसम विभाग के मुताबिक, 2017 से ही पूर्वी ऑस्ट्रेलिया सूखे की मार झेल रहा है और नवंबर में बारिश रिकॉर्ड न्यूनतम स्तर पर पहुंच गई थी. मौसम विभाग द्वारा जारी विशेष रिपोर्ट में कहा गया था कि इस सीजन में गर्मी अधिक बढ़ सकती है, जिससे आग की घटनाएं सबसे ज्यादा बढ़ सकती हैं. सितंबर के महीने से ऑस्ट्रेलिया में गर्मी इसलिए बढ़ जाती है. क्योंकि यह पृथ्वी के दक्षिणी गोलार्द्ध में स्थित है और इस समय सूर्य का दक्षिणायन होना शुरू होता है.

भयानक तस्वीरें वायरल
इस आग की घटना के दौरान कई ऐसे तस्वीरें वायरल हुई है जिसे देखकर किसी का भी दिल दहल जाएगा. जानवर अपनी जान बचाने के लिए हर प्रयास कोशिश कर रहे हैं. वहीं न्यू साउथ वेल्स रूरल फायर सर्विस विश्व की सबसे बड़ी फायर सर्विस है. जिसे यहां कि सरकार ने आग बुझाने के लिए संपर्क किया था. इसमें 74 हजार वॉलंटियर काम करते हैं. प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने कहा, “वॉलंटियर्स ने इस काम के लिए वित्तीय मदद नहीं मांगी, लेकिन हम उन्हें समस्या नहीं आने देना चाहते हैं.

बारिश ने दिलाई राहत
इस अग्नि कांड में अबतक 50 करोड़ से ज़्यादा जानवर मारे गए हैं. इनमें ज़्यादातर कोआला और कंगारू हैं जो कि मुख्य रूप से ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में पाए जाते हैं. वहीं ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी भयंकर आग से सोमवार को हुई बारिश ने लोगों को थोड़ी राहत दिलाई

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More