Local Heading

गुजरात, महाराष्ट्र और गोवा में तांडव मचा सकता है ‘वायु’

वायु चक्रवात की रफ्तार 110 से 135 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है. इसका लैंडफॉल सौराष्ट्र तट के करीब होने का अनुमान है. अभी चक्रवात अपनी वर्तमान स्थिति से उत्तर की ओर सौराष्ट्र के पोरबंदर और महुवा के बीच बढ़ रहा है.

अरब सागर में पैदा हुआ चक्रवाती तूफान ‘वायु’ गुजरात के अरब सागर के पास पहुंच गया है. मौसम विभाग के मुताबिक तूफान 13 जूून की सुबह तक गुजरात से टकराएगा. तूफान को देखते हुए गुजरात सरकार ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है.

गुजरात से पहले महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में चक्रवात वायु का असर देखने को मिल रहा है. मुंबई में आज सुबह तेज हवाओं के कारण एक पेड़ उखड़ गया. पेड़ के नीचे एक बाइक आ गई. वहीं, मुंबई मौसम विभाग ने कहा है कि चक्रवात की वजह से उत्तर महाराष्ट्र के तट पर में तेज हवाएं चलेंगी.

तटीय क्षेत्र के लिए ‘हाई अलर्ट’ घोषित

दरअसल समुद्री तूफान ‘वायु’ कल गुजरात स्थित पश्चिमी तट से टकराएगा. इसके मद्देनजर वहां से तीन लाख लोगों को तूफान के प्रभाव से दूर ले जाने की तैयारी की जा रही है. सरकार ने कच्छ से लेकर दक्षिण गुजरात तक के तटीय क्षेत्र के लिए ‘हाई अलर्ट’ घोषित कर दिया है. इस क्षेत्र के सभी स्कूल और कॉलेज आज और कल बंद रहेंगे. बीते मंगलवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने खुद तूफान से बचने की तैयारियों का जायजा लिया.

‘वायु’ कल पोरबंदर तट से टकरा सकता है

‘वायु’ कल पोरबंदर और महुवा स्थित वेरावल व दीयू क्षेत्र के बीच वाले तट से टकरा सकता है. ऐसे में इस क्षेत्र के इलाकों में तेज हवाएं देखने को मिलेंगी. मौसम विभाग ने संभावना जताई है कि तूफान से छप्पर वाले घरों को नुकसान पहुंच सकता है. बिजली और संचार की समस्या आ सकती है. साथ ही, सड़कों और फसलों को भी नुकसान हो सकता है.

ऐसे में बचाव अभियान की अभी से तैयारी की जा रही है. राष्ट्रीय आपदा राहत बल की टीम के साथ वायु सेना का एक विमान आज सुबह जामनगर पहुंच गया. सेना, तट रक्षक, बीएसएफ और अन्य एजेंसियों को भी बचाव अभियान के लिए तैयार रहने को कहा गया है.

भूस्खलन हो सकता है

‘वायु’ के चलते गुजरात के कई इलाकों में बाढ़ की स्थिति पैदा हो सकती है. इनमें कच्छ, द्वारका, पोरबंदर, जूनागढ़, गीर सोमनाथ, अमरेली और भावनगर जैसे जिले शामिल हैं. तूफान के चलते भूस्खलन हो सकता है.

मछुआरों को समुद्र तटीय इलाके में न जाने की सलाह दी गई

तूफान को देखते हुए मछुआरों को 15 जून तक समुद्र और तटीय इलाके में न जाने की सलाह दी गई है. महाराष्ट्र के नजदीक पड़ने वाले तट पर भी आज और कल जाने की मनाही है.

तीन दिवसीय ‘शाला प्रवेशोत्सव’ भी रद्द

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने पर्यटकों से अपील की है कि वे आज द्वारका, सोमनाथ, सासन और कच्छ छोड़ कर सुरक्षित स्थानों पर चले जाएं. इसके लिए राज्य सरकार ने अलग से वाहनों का इंतजाम किया है जो पर्यटकों को सुरक्षित जगहों पर ले जाने में मदद करेंगे. तूफान को देखते हुए सरकार ने अपना तीन दिवसीय ‘शाला प्रवेशोत्सव’ भी रद्द कर दिया है.

रत्नागिरी पोर्ट पर दस चीनी नौकाओं को मानवता के आधार पर शरण दी गई

गोवा और कोंकण में भी ‘वायु’ की वजह से अगले दो दिन भारी बारिश देखने को मिल सकती है. इस बीच, भारतीय तट रक्षक ने बताया कि महाराष्ट्र के रत्नागिरी पोर्ट पर दस चीनी नौकाओं को मानवता के आधार पर शरण दी गई है. ‘वायु’ के संभावित प्रभाव से बचने के लिए इन नौकाओं के अधिकारियों की तरफ से इसकी अपील की गई थी.

विमान सेवाओं पर ब्रेक

चक्रवात वायु का असर हवाई यातायात पर भी देखा जा रहा है. अहमदाबाद के सरदार वल्लभ भाई पटेल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से गुरुवार को कुछ शहरों के लिए विमान सेवाओं पर ब्रेक लग गया है. पोरबंदर, दीव, कांधला, मुंद्रा और भावनगर के लिए गुरुवार को विमान सेवाएं रद्द की गई हैं.


रफ्तार 110 से 135 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है

वायु चक्रवात की रफ्तार 110 से 135 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है. इसका लैंडफॉल सौराष्ट्र तट के करीब होने का अनुमान है. अभी चक्रवात अपनी वर्तमान स्थिति से उत्तर की ओर सौराष्ट्र के पोरबंदर और महुवा के बीच बढ़ रहा है.

Related posts

मोटर ड्राइविंग स्कूल से हादसों में आएगी कमी

Deepanshi

बर्थडे स्पेशल: सोना चुराकर घर से भागे थे पीएम मोदी!

Deepanshi

इस रोमांटिक गढ़वाली गीत को सुने बिना नहीं रह पाएंगे आप

Harish Singh

वायरल: बैग में मिली 5 महीने की बच्ची, बिग बॉस में शेफ बने सलमान

Ramta

6वीं के बच्चे का तोहफा देखकर हैरान रह गयी राज्यपाल!

Avnish Singh

अगर आपके हाथ में भी हैं यह रेखाएं, तो बन सकते हैं राज्यपाल और मुख्यमंत्री

Harish Singh

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More